छाता – श्वेतांक

एंकर-यूं तो बिजली विभाग द्वारा बहुत जोर से चोरी और बिल के पैसे वसूलने के लिए अभियान चलाया जा रहा है परंतु बिजली विभाग पर अक्सर खामियों के आरोप लगते रहे हैं छाता कस्बे में इन दिनों लगातार सुर्खियों में है बिजली के खंभों पर लटकते हुए तार। गर्मी का मौसम होने के कारण तारों में लचीलापन आ जाता है जिससे क्षेत्र में कहीं भी शार्ट सर्किट होने की ज्यादा संभावना हो जाती है आखिरकार यह विभाग नींद से कब जागेगा या जब कोई अनहोनी या कोई गंभीर घटना किसी पशु या किसी व्यक्ति के साथ हो जाए।

आपको दिखाते हैं छाता की तस्वीरे जहां पर बाजार में लगी हुई बिजली के खंभों पर एक दो नहीं बल्कि ना गिनने वाले तारों की संख्या में तारों का झुंड है अगर कोई आदमी अपने तार को पहचानने की भी कोशिश करें तो शायद नहीं पहचान सकता यह तार आंधी में कब गिर जाएं यह तो भगवान ही जाने। धूप से तारों में लचीलापन हो जाता है और बाजार में तार लटकने से राह चलते ग्रामीणों की जान पर कब आफत बनाए यह भी एक समस्या है दूसरी तस्वीर छाता तहसील मुख्यालय की है जहां पर प्रशासनिक अधिकारी भी बैठते हैं परंतु यहां भी तारों का जंजाल बना हुआ है अब देखना होगा कि बिजली विभाग इन तारों के जंजाल से छाता को कब मुक्ति दिलाएगा

Leave a Reply

Your email address will not be published.