श्री बिंदु सेवा संस्थान और वृंदावन बाल विकास परिषद के द्वारा हुआ फ्यूचर फॉर किड्स कार्यक्रम का आयोजन

श्री बिंदु सेवा संस्थान और वृन्दावन बाल विकास परिषद के संयुक्त तत्वाधान में मंगलवार को परिक्रमा मार्ग स्थित बालेंन्दु प्राइमरी शिक्षा निकेतन पर फ्यूचर फॉर किड्स कार्यक्रम का आयोजन रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के मध्य हर्षोल्लास के साथ किया गया । जिसमें बाल प्रतिभाओं ने नृत्य , गायन , वादन आदि में अपनी प्रतिभा का बखूबी प्रदर्शन किया। वहीं निर्धन परिवारों से आई महिलाओं और बेटियों को वस्त्र आदि वितरण कर उन्हें सम्मानित भी किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए बालकराम गोस्वामी महाराज ने कहा कि समाज की मुख्यधारा से वंचित लोगों के लिए किए जाने वाला सेवाकार्य समाज व राष्ट्र को एक नई दिशा प्रदान करता है। ऐसे कार्यों के माध्यम से ही उन्नत राष्ट्र की परिकल्पना साकार की जा सकती है।
मुख्य अतिथि राधा कृष्ण पाठक ने कहा कि निर्धन महिलाओं व बच्चों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए किए जा रहे प्रयास वास्तव में समाज के लिए एक आदर्श है। समाज के सभी वर्गों के लोगों को ऐसे साहसिक प्रयासों में तन मन धन से सहयोग करना चाहिए। विशिष्ट अतिथि राधारमण मंदिर के सेवायत पदमनाभ गोस्वामी ने कहा कि भारतीय संस्कृति जीवनशैली और सभ्यता हमेशा से ही संस्कारों से परिपूर्ण रही है और आज देश को संस्कार युक्त शिक्षा की जरूरत है । ताकि देश का भविष्य उज्जवल हो सके। सम्मानित अतिथि विपिन अग्रवाल मुकुटवाला ने कहा कि श्री धाम वृंदावन में निस्वार्थ भाव से निर्धन बच्चों को शिक्षा देकर उन्हें स्वाबलंबी बनाने के प्रयास बिन्दु सेवा संस्थान एवं वृन्दावन बाल विकास परिषद द्वारा किए जा रहे हैं वह सराहनीय है।
इससे पूर्व स्कूली बच्चों ने फ्यूचर फॉर किड्स के अंतर्गत ब्रज नृत्य, होली नृत्य, मयूर नृत्य, बॉलीवुड डांस , डांडिया , हरियाणवी राजस्थानी , पंजाबी गिद्दा, ओडिसी, कत्थक नृत्यो की प्रस्तुति के मध्य गायन व वादन में भी अपनी बाल प्रतिभा दिखाई।
इस अवसर पर पूर्णेन्दु गोस्वामी , विनीत शर्मा, अशोक कुमार, गोलू पंडित , जितेंद्र वार्ष्णेय, अंकित वार्ष्णेय, गौरव राठी, राहुल शर्मा, विष्णु गोला , लव सक्सेना , सूरज शर्मा , हिमांशु शर्मा , मनीष शर्मा, गोपाल शर्मा, पवन कुमार, मोनिका सिंह, मृदुल श्याम शर्मा, अभिषेक पाठक आदि उपस्थित थे। आभार मेघश्याम वार्ष्णेय ने, धन्यवाद ज्ञापन अवधेश अग्रवाल ने और संचालन पूणेनदु गोस्वामी ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *